deshjagran

Just another weblog

44 Posts

28 comments

girishnagda


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

अन्ना को १५ जुलाई का अपना अनशन स्थगित कर देना चाहिए

Posted On: 13 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

Tools ‹ deshjagran — WordPress

Posted On: 13 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

अन्ना को १५ जुलाई का अपना अनशन स्थगित कर देना चाहिए

Posted On: 13 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

मुझे यह समझ में नहीं आता

Posted On: 6 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

मुझे यह समझ में नहीं आता

Posted On: 6 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

4 Comments

मुझे यह समझ में नहीं आता

Posted On: 6 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

नापसंदगी नहीं पसंदगी का सोचो

Posted On: 5 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

नापसंदगी नहीं पसंदगी का सोचो

Posted On: 5 Jul, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

अन्नाटीम को चुनाव अवश्य ही लड़ना ही चाहिए

Posted On: 28 Jun, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

एक प्रतिशत बनाम निन्यान्वे प्रतिशत का देश

Posted On: 11 Jun, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

Page 4 of 5«12345»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: rameshagarwal rameshagarwal

भाई गिरीश जी आप निराश न हो टीम अन्ना का अंतिम लक्ष्य ही चुनाव लड़ना है या लड़ाना है क्योंकि आन्दोलन में माँगा तो बहुत कुछ जाता है परन्तु समझौता कुछ कम पर किया जाता है यहाँ तो मांगे कम से आरम्भ हो कर बढाती ही जाती है जिसका सीधा अर्थ है किसी भी बात को लटकाना न की उसका हल निकालना अत जनता भी जानती है की यह केवल प्रचार का साधन मात्र है टीम का लक्ष्य कुछ और है - एक सबसे बड़ी अजीब बात यह है की दो आन्दोलन ( बाबा और अन्ना ) का लक्ष्य तो एक है परन्तु दोनों अलग अलग शक्ति प्रदर्शन कर जनता को रिझाना चाहते है जिसका उल्टा मतलब निकल रहा है जो बाबा राम देव ने सिद्ध भी कर दिया यह कह कर की किसी भी आन्दोलन में कम से कम १ प्रतिशत जनता की भागीदारी निश्चित होनी चाहिए नहीं तो आन्दोलन कैसा ? कृपया मेरी पोस्ट भी देखे http://sohanpalsingh.jagranjunction.com/2012/07/27/%e0%a4%9c%e0%a5%88%e0%a4%b8%e0%a5%87-%e0%a4%ac%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%be-%e0%a4%b9%e0%a4%9c-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%9c%e0%a5%80-%e0%a4%b5%e0%a5%88%e0%a4%b8%e0%a5%87-%e0%a4%b9/ धन्यवाद.

के द्वारा:

गिरीश जी आपका लेख अतिउत्‍तम और सच्‍चाई को प्रदर्शित करते हुए लिखा गया है। यह सत्‍य है कि प्रदर्शन मे भीड जुटने से निर्णय नही बदलवाये जा सकते है लेकिन राजनीति के अलावा भी रास्‍ते है जो राजनीति से ज्‍यादा प्रभावी है। गिरीश जी मैने राजनीति के माध्‍यम से समाज मे कुछ बदलाव लाने की कोशिस की बदलाव तो नही आया मुझे अपने को बदलने पर मजबूर होना पड रहा है। राजनीति मे स्‍थापित लोग साम दाम दण्‍ड और भेद के माध्‍यम से अपना पद बचाये रखने मे सफल हो रहे है। यही लोग जो भ्रष्‍टाचार से ग्रस्‍त है जब वोट डालना होता है तो वे जाति धर्म और पैसे के लिये वोट देते है सुशासन के लिये नही। इसलिये अन्‍ना टीम का सामाजिक आन्‍दोलन ही आज के परिवेश मे छीक है। आवश्‍यकता है एक सकारात्‍मक शुरूआत की।

के द्वारा:

के द्वारा: girishnagda girishnagda

के द्वारा: girishnagda girishnagda

के द्वारा:

गिरीश जी आप ने वाकई बहुत ही सही विषय लिया है बहुत बहुत धन्यवाद यह बहुत बड़ी समस्या है डॉ. ने सेवा कप व्यवसाय बना दिया है ..एक मेरे मित्र के पिताजी को अटेक आया था उन्हें बुरहानपुर से इंदौर लाया गया था उन्हें डॉ. ने तुरंत बायपास करने के लिए कहा और कहा एक बलून लगाना होगा उसके ४०००० रु . लगेंगे और दो स्प्रिंग लगाने होंगे उस के ५०००० रु. अलग से लगेंगे चूँकि अंकल की उम्र ७२ वर्ष थी इस लिए मैंने मेरे मित्र से कहा यह बहुत रिस्की होगा और सभी विचार करने लगे अगले दिन डॉ. को लगा ये लोग अब शायद ओपरेशन नहीं कराएँगे उन्होंने तुरंत सब को बुलाया और कहा "मेरे ख्याल से बलून लगाने की जरूरत नहीं है और स्प्रिंग भी नहीं लगाया तो चल जायेगा लेकिन ओपरेशन जरुर कराइए नहीं तो ६ माह से अधिक उनका जीना असंभव है " फिर भी सब ने निर्णय लिया ओपरेशन नहीं करना है उम्र देखते हुए आज इस बात को लगभग २ साल हो गए है अंकल आज भी फिट है उस दिन का निर्णय आज सभी को सही लगता है लेकिन उस समय उनके इस निर्णय पर कितना दर्द देता होगा आप समझ सकते है उस मानसिक प्रताड़ना का क्या ?.............प्रजोत जोशी

के द्वारा: girishnagda girishnagda




latest from jagran